February 9, 2023

Top1 india news

No. 1 News Portal of India

बीआरडी बीडी पीजी कालेज आश्रम में बाबा राघवदास की 126वीं जयंती का भव्य आयोजन

1 min read

रिपोर्ट – सद्दाम हुसैन देवरिया

राष्ट्रसेवा एवं जनसेवा था बाबा जी का मिशन – प्रो. ब्रजेश कुमार-पाण्डेय

आध्यात्मिक और सांस्कृतिक सेवा कार्यों के पुंज थे बाबा जी – आंजनेयदास

    देवरिया: (उ0प्र0) देवरिया जिले के स्थानीय बाबा राघवदास भगवानदास स्नातकोत्तर महाविद्यालय आश्रम में सोमवार को, परमहंस बाबा राघवदास जयंती समारोह मनाया गया। समारोह की मुख्य अतिथि उदित नारायण स्नातकोत्तर महाविद्यालय, पड़रौना की प्राचार्या प्रो.ममता मणि त्रिपाठी ने कहा कि बाबा ने धर्म को राजनीति के संबद्ध किया। उनका विचार था कि धर्म युक्त राजनीति से निर्मित शासन ही कल्याणकारी होगा। उन्होंने शिक्षा के अंधकार की समाप्ति के लिए डेढ़ सौ शिक्षण संस्थाएं खोली। कहा कि, वर्तमान नई शिक्षा नीति में शिक्षा सुधार की व्यापक दृष्टि रखी गई है। स्त्री शिक्षा पर भी उन्होंने काफी जोर दिया। वह करुणा व दया के प्रतिमूर्ति थे।
अध्यक्षता कर रहे संत विनोबा पीजी कालेज, देवरिया के प्राचार्य प्रो.अर्जुन मिश्र ने कहा कि वर्तमान में बाबा का व्यक्तित्व, विचार एवं कार्य की काफी प्रासंगिक है। वह राष्ट्र व राज्य निर्माण करने वालों के लिए प्रेरणास्रोत हैं। वह राघवेन्द्र से राघवदास अपने धर्म, ज्ञान और कर्म के कारण बनें। वह ऋषि परंपरा, के पोषक तथा राष्ट्रवाद के कट्टर समर्थक थे। कहा कि समाज को बदलने के लिए सेवा की जरूरत है। परमहंसाश्रम बरहज के पीठाधीश्वर आंजनेयदास महाराज ने कहा कि, बाबा आध्यात्मिक, सांस्कृतिक एवं सेवा कार्यों के पुंज थे। उनके व्यक्तित्व व कृतित्व का अनुकरण कर समाज व राष्ट्र का व्यापक विकास किया जा सकता है। विशिष्ट अतिथि रामजी सहाय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, रुद्रपुर के प्राचार्य प्रो.ब्रजेश कुमार पाण्डेय ने कहा कि, भारतीय समाज सेवियों एवं चिंतको में बाबा राघवदास का महत्वपूर्ण स्थान है। करुणा, दया, सहानुभूति, सेवा उनकी रग-रग में समाहित था। जैसे रामकृष्ण परमहंस ने विवेकानंद को पहचान लिया, वैसे ही अनंत महाप्रभु ने राघवेन्द्र को पहचान लिया था। राष्ट्र सेवा एवं जनसेवा उनका संकल्प रहा।
महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो.शंभुनाथ तिवारी ने, सभी अतिथियों एवं आगंतुकों का स्वागत करते हुए उनके प्रति आभार ज्ञापित किया। समारोह संयोजक दर्शन शास्त्र विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ.सूरज प्रकाश गुप्ता ने कार्यक्रम की संक्षिप्त आख्या प्रस्तुत की। कार्यक्रम की शुरुआत मां सरस्वती, तथा बाबा राघवदास के चित्र के समक्ष पुष्पार्पण एवंं दीप प्रज्जवलित करके हुआ। प्राचार्य प्रो.शंभुनाथ तिवारी, डॉ.सूरज प्रकाश गुप्ता, डॉ.राकेश कुमार सिंह, डॉ.गायत्री मिश्रा, डॉ, धनंजय तिवारी, डॉ.विनीत पाण्डेय, डॉ.अरविन्द पाण्डेय, डॉ.विनय तिवारी, डॉ.अब्दुल हसीब, डॉ.प्रभु कुमार, डॉ.अजय बहादुर ने अतिथियों का माल्यार्पण तथा स्मृति चिह्न देकर सम्मान किया। कार्यक्रम को प्रेमशंकर पाठक, सावित्री राय, मंगल मणि त्रिपाठी, डॉ.अजय मिश्र, डॉ.ओम प्रकाश शुक्ला ने संबोधित किया। मोही दीक्षित एवं निधि दीक्षित ने मंगलाचरण तथा नैंसी मिश्र व दिव्या तिवारी ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत किया। सोनाली सिंह एवं मधू मिश्रा ने स्वागत गीत किया। संचालन समाज शास्त्र विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ.अमरेश त्रिपाठी ने किया। इस दौरान झब्बू प्रसाद मिश्र, पारसनाथ यादव, उमेश, डॉ.वेद प्रकाश सिंह, डॉ.विजय प्रकाश पाण्डेय, रमाकांत पाण्डेय, कृष्ण मोहन पाठक, जनार्दन बरनवाल, डॉ.आरती पाण्डेय, डॉ.आभा मिश्र, डॉ.संजय सिंह, डॉ.अवधेश यादव, डॉ.अविकल शर्मा, डॉ.सुनील कुमार श्रीवास्तव, डॉ.विवेकानंद पाण्डेय, डॉ.प्रज्ञा तिवारी, डॉ.रणधीर श्रीवास्तव,पंडित विनय मिश्रा, डॉ.संजीव कुमार, रविंद्र मिश्र, मनीष श्रीवास्तव, राधेश्याम तिवारी सिराज अहमद आदि मौजूद रहे। कार्यक्रम में आश्रम से जुड़े सभी शिक्षकों संस्थानों से शिक्षक व कर्मचारी उपस्थित रहे।
बाबा राघव दास की जयंती समारोह में महाविद्यालय के विभिन्न छात्र छात्राओं को पदको से सम्मानित किया गया, वही इस दिव्य अवसर पर गरीबो को कम्बल प्रदान किया गया, कम्बल प्राप्त करने वालो में राहुल, तारा,सीमा, जिलेबा,कंचना आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright ©2022-2023 Top1 India News | Newsphere by AF themes.
Translate »