November 27, 2022

Top1 india news

No. 1 News Portal of India

राप्ती और गोर्रा बढ़ाव पर, बथुआ के पानी में डूबा मन्दिर और धर्मशाला

1 min read

रिपोर्ट – सद्दाम हुसैन ब्यूरो चीफ देवरिया

     देवरिया: (उ0प्र0) देवरिया जिले के रुद्रपुर क्षेत्र मे राप्ती और गोर्रा का जलस्तर खतरे के निशान ऊपर प्रवाहित होने के साथ ही लगातार बढ़ाव पर है। बथुआ नदी के पानी में रुद्रपुर नगर के पक्का घाट पर शिव मन्दिर और धर्मशाला डूब गए हैं। राप्ती नदी के दबाव से बथुआ नदी में उल्टा धारा प्रवाहित होने लगी है।
नाला का जलस्तर भी लगातार बढ़ता जा रहा है। रुद्रपुर नगर के पास मझना नाला आकर बथुआ में मिलता है। जहां से मझना का अस्तित्व समाप्त हो जाता है। फिर देवरिया की ओर से आ रहा कुर्ना नाला सरयां गांव के पास बथुआ में मिल जाता है। जहां से कुर्ना का भी अस्तित्व समाप्त हो जाता है। कुर्ना और मझना को समेटते हुए बथुआ नदी मदनपुर गोला और गायघाट गांव के पास राप्ती की धारा में मिल जाती है। जहां से बथुआ का भी अस्तित्व समाप्त हो जाता है। अब स्थित यह है कि राप्ती का जलस्तर ऊपर होने के कारण बथुआ नदी में उल्टा पानी बहना शुरू हो गया है। उधर गोर्रा का जलस्तर लगातार बढ़ने के कारण पिड़रा घाट पुल के दोनों एप्रोच पर खतरा बढ़जा जा रहा है।
करीब तीन सप्ताह से पिड़रा पुल पर आवागमन बन्द होने के कारण लोगों की दुश्वारियां बढ़ती जा रही है। सबसे अधिक परेशानी स्कूली बच्चों को हो रही है। उदय एकेडमी के प्रबन्धक डीएन सिंह ने बताया कि पिड़रा पुल पर आवागमन बन्द हो जाने के कारण बहुत ही दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। दोआबा के पचलड़ी, रतनपुर, पलिया, सुल्तानी, बेलवा दुबौली, भगवान माझा, लालपुर परसिया, विशुनपुर बगही, हौली बलिया, तिघरा खैरवा आदि गांवों के बच्चे रुद्रपुर पढ़ने आते हैं। उन बच्चों को लेने के लिए नरायनपुर के रास्ते एक बस को पचलड़ी में खड़ा किया गया है। वह बस दोआबा के बच्चों को पचलड़ी लाती है। जहां से शिक्षक उन्हें पैदल लेकर पिड़रा आते हैं। जहां से दूसरी बस में बैठाकर रुद्रपुर लाया जा रहा है। पढ़ाई के बाद इसी तरह से उन्हें घर पहुंचाया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright ©2022-2023 Top1 India News | Newsphere by AF themes.
Translate »