December 3, 2022

Top1 india news

No. 1 News Portal of India

संतोष मद्धेशिया का सराहनीय कार्य दूसरों की जान बचाने का जुनून, जरुरतमंदो को दे रहे हैं खून

1 min read

रिपोर्ट – सद्दाम हुसैन ब्यूरो चीफ देवरिया

वाट्सअप ग्रुप बनाकर हर जरूरतमंद को उपलब्ध करा रहे रक्त

देवरिया: (उ0प्र0) देवरिया जिले मे अपने पिता के इलाज के लिये खून की आवश्यकता पड़ने पर रक्तदान के महत्व को जानने के बाद उस वाकये ने सन्तोष मद्धेशिया के जीवन का मकसद ही बदल दिया । रक्तदान की ऐसी ललक जगी की अबतक वह 14 बार रक्तदान कर दूसरों की जान बचा चुके हैं । वह खुद रक्तदान तो करते ही हैं दूसरों को भी प्रेरित करते हैं, आज उनके परिवार के अधिकतर सदस्यों सहित कई रिश्तेदार भी नियमित रक्तदान करने लगे हैं । ह्वाट्सएप ग्रुप स्वच्छ भलुअनी स्वस्थ भलुअनी (यूथ ब्रिगेड) के माध्यम से हर जरूरतमंद को रक्त उपलब्ध करा रहे हैं । रक्तदान के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिये यूथ ब्रिगेड का नाम वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड लन्दन में भी दर्ज है ।

अब तक 14 बार रक्तदान कर चुके हैं सन्तोष मद्धेशिया वैश्य

जानकारी के मुताबिक आपको बता दें की मूलरूप से भलुअनी निवासी सन्तोष मद्धेशिया वर्ष 2014 में अपने पिता रामचन्द्र मद्धेशिया को इलाज के लिये बीएचयू बनारस ले गये, जहां दस यूनिट से अधिक ब्लड की आवश्यकता उनके पिता को पड़ी । सबसे पहले उनके पिता के लिये बनारस निवासी युवा रक्तवीर मनीष गुप्ता व मित्र बृजमोहन मद्धेशिया ने रक्तदान किया । फिर बाद में आवश्यकता पडने पर उनके मित्र मनोज मद्धेशिया, जीजा विजय मद्धेशिया, बनारस निवासी राजेश गुप्ता व एक जूनियर डॉक्टर सहित कई लोंगों ने रक्तदान किया था । पिता के लिये एक अजनबी मनीष गुप्ता व मित्रों और रिश्तेदारों को रक्तदान करता देख उसी दिन सन्तोष मद्धेशिया ने ठान लिया की मैं भी दूसरों का जीवन बचाने के लिये रक्तदान करूँगा और दूसरों को भी प्रेरित करूँगा । पहली बार 10 अक्टूबर 2018 को गोरखनाथ ब्लड बैंक (गोरखपुर) में उन्होंने एक मुस्लिम महिला की गुहार पर उसके पति के लिये रक्तदान किया । पहली बार रक्तदान करने के बाद उस महिला द्वारा मिली दुआएं व स्वयं द्वारा महसूस हुयी सुकून ने रक्तदान के प्रति जुनून पैदा कर दिया । वर्ष 2018 से जो यह सिलसिला शुरू हुआ तो उन्होंने हर तीन माह पर नियमित रक्तदान करते हुये चार वर्ष बाद पुनः महर्षि देवरहा बाबा मेडिकल कालेज ब्लड बैंक देवरिया में अपना 14 वां रक्तदान किया । आज उनके परिवार में उनकी पत्नी इसरावती 4 बार, बहन आशा, भाई जयप्रकाश, रामप्रवेश, राजेश, अजित, विनय व जीजा विजय सहित अन्य कई सदस्य भी रक्तदान कर रहे हैं । बड़ी बहन पुष्पा, भाई मनोज, विनोद व बिटिया दिव्या, बेटे दीपक और सूरज भी रक्तदान करने को उत्सुक हैं । उनसे रक्तदान की प्रेरणा पाकर उनके कई रिश्तेदार भी रक्तदान कर रहे हैं । रक्तदान को अपने जीवन का मुख्य उद्देश्य बना चुके 39 वर्षीय सन्तोष मद्धेशिया वैश्य रक्तदान के प्रति इतने समर्पित हो चुके हैं कि वह रक्तदान का शतक पूरा कर अपने रक्त से अधिक से अधिक लोंगों का जीवन बचाना चाहते हैं । सन्तोष मद्धेशिया का कहना है कि दूसरों की मदद करने की प्रेरणा बचपन से ही माता पिता से मिली है और इसीलिए किसी की मदद करने में मुझे खुशी व संतुष्टि मिलती है । उन्होंने रक्तदान के प्रति सन्देश देते हुये कहा कि रक्त का कोई विकल्प नही होता है ना तो इसे किसी लैब में बनाया जा सकता है ना ही किसी दुकान से खरीदा जा सकता है इसलिये हर सक्षम पुरूष को तीन महीने व महिला को चार महीने पर नियमित रक्तदान करना चाहिये । इस दौरान डॉ. एस सी सिंह, एलटी तेजभान व विक्रांत राय उपस्थित रहे ।

टीम कर चुकी है हजारों लोंगों की मदद

रक्तदान के प्रति जुनूनी सन्तोष मद्धेशिया द्वारा रक्तदान मुहिम से युवाओं को जोड़ने के लिये स्वच्छ भलुअनी स्वस्थ भलुअनी (यूथ ब्रिगेड) नाम से एक ह्वाट्सएप ग्रुप बनाकर आओ नशा नही रक्तदान करें मुहिम चलायी जा रही है । 17 जुलाई 2018 को बनाये गये इस ग्रुप में प्रदेश के कई जिलों के रक्तवीर जुड़े हुये हैं । एक दूसरे के सम्पर्कों के जरिये यूथ ब्रिगेड अब तक 256 यूनिट रक्तदान व सैकडों लोंगों को प्रेरित कर हजारों लोंगों की जिंदगी बचा चुका है । टीम से जुड़े सैकड़ों युवा शिविरों में व जरूरत पड़ने पर रक्तदान करने को तैयार रहते हैं । यूथ ब्रिगेड के रक्तदानियों की बदौलत यह टीम अब तक छः रक्तदान शिविर भी लगवा चुकी है । रक्तदान के फायदे जानने के बाद हर शिविर में नये युवा रक्तदाता भी जुड़ रहे हैं । यूथ ब्रिगेड को रक्तदान सहित स्वच्छता, वृक्षारोपण, जल संरक्षण, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, योग, शिक्षा, नशामुक्ति, यातायात सुरक्षा, स्वास्थ्य, आर्थिक सहयोग, वस्त्र वितरण जैसे अन्य सामाजिक कार्यों के लिये भी कई प्रतिष्ठित अवार्ड प्राप्त हो चुके हैं ।

बढ़ता जा रहा रक्तदाताओं का कारवां

रक्तदाता समूह यूथ ब्रिगेड से जुड़ने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है । इस समूह में भलुअनी के अलावा दोहरीघाट, बरहज, देवरिया, लार, सलेमपुर, भाटपाररानी, तरकुलवां, मगहरा सहित भलुअनी क्षेत्र के काफी गांवों के युवा जुड़े हुये हैं जिनकी सक्रियता से कोरोना काल में भी रक्तदान शिविर लगाया गया । साथ ही हर वर्ष रक्तदान शिविर आयोजित कर ब्लड बैंक से ब्लड की कमी को दूर करते हुये जरूरतमंदों को मदद दी जाती है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright ©2022-2023 Top1 India News | Newsphere by AF themes.
Translate »